April 13, 2024

हवाई अड्डे पर इंतजार करते रह गए कर्नाटक के राज्यपाल, बिना लिए ही उड़ गई एयर एशिया की फ्लाइट

Spread the love

एक बड़ी लापरवाही की घटना बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से सामने आ रही है। राज्यपाल थावर चंद गहलोत को बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल-2 से हैदराबाद के लिए एयर एशिया की उड़ान I5972 में सवार होना था। राज्यपाल की प्रोटोकॉल टीम के एक अधिकारी के मुताबिक, राज्यपाल समय से वीवीआईपी लाउंज में पहुंच गए थे और इंतजार कर रहे थे पर एयरएशिया की फ्लाइट गुरुवार को बेंगलुरु इंटरनेशनल एयरपोर्ट के टर्मिनल-2 से राज्यपाल थावर चंद गहलोत को लिए बिना ही रवाना हो गई।

राज्यपाल की प्रोटोकॉल टीम के एक अधिकारी ने कहा कि राज्यपाल गुरुवार दोपहर 1:30 बजे हवाईअड्डे पहुंचे और टर्मिनल 1 के वीवीआईपी लाउंज में बैठे। एयरलाइंस के ग्राउंड स्टाफ को उनके आगमन के बारे में सूचित किया गया और प्रोटोकॉल के अनुसार सभी व्यवस्थाएं की गईं। गवर्नर के बोर्ड में शामिल होने वाले अंतिम व्यक्ति होने के लिए। इस विमान को दोपहर 2:50 बजे उड़ान भरनी थी. गवर्नर सुबह 2:06 बजे टर्मिनल 1 से टर्मिनल 2 पर पहुंचे, लेकिन एयरलाइन स्टाफ ने देरी होने की बात कहकर उनकी बोर्डिंग क्लियर नहीं की। राज्यपाल​ को विमान में बोर्ड नहीं होने दिया प्रोटोकॉल अधिकारी के मुताबिक, इस विमान ने 2 बजकर 27 मिनट पर उड़ान भरी, लेकिन एयरलाइंस स्टाफ ने राज्यपाल को विमान में बोर्ड नहीं होने दिया। राज्यपाल के कार्यालय की ओर से इस बाबत एयरपोर्ट पुलिस स्टेशन में एक केस भी दर्ज किया गया है।

मामले के सामने के बाद एयर एशिया ने सफाई देते हुए इस असुविधा के लिए राज्यपाल से माफी मांगी है और इस प्रकरण की विभागीय जांच के आदेश भी दे दिए हैं। एयरलाइंस ने घटना पर जताया खेद एयरलाइंस ने अपनी सफाई में कहा, “हमें इस घटना पर खेद है। जांच कराई जा रही है और उचित कार्रवाई की जाएगी। एयरलाइन की वरिष्ठ नेतृत्व टीम इसे लेकर गवर्नर कार्यालय के संपर्क में है। प्रोफेशनलिज्म के हाई स्टैंर्डर्ड और प्रोटोकॉल के पालन के प्रति हमारी प्रतिबद्धता अटूट बनी हुई है और हम राज्यपाल कार्यालय के साथ अपने संबंधों को गहराई से अहमियत देते हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next post MP में बाघों की संख्या में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी, एक बार फिर बना टाइगर स्टेट; संख्या बढ़कर 785 हो गई